शादी शुदा जीवन को कैसे बेहतर बनाये।

शादी शुदा जीवन को बेहतर बनाने के 14 अच्छे तरीके। 14 Good Ways to Improve Married Life. Shadi Shuda jivan ko Khushhal kaise Banaye.

हर व्यक्ति ऐसा सोचता है, की वो शादी के बाद खुश हाल जिंदगी जिए। पर ऐसा हर किसीके जीवन में नहीं होता। ज्यादातर शादी सुदा जीवन के कोई न कोई परेशानी रहती है।
Image : Pixabay

1. गलतियों को माफ़ करते रहे।

सर्वगुण सम्पन तो सिर्फ उपरवाला है। हम तो इंसान है, इसलिए हमसे या हमारे पार्टनर से गलतियाँ होने वाली ही है। इसलिए गलतियों को माफ़ करना ही बेहतर है। लाइफ पार्टनर एक दुसरे को साथ दे तो ऐसी कोई गलती नहीं है जिसे सुधारा न जा सकता हो। इसलिए एकदूसरे को माफ़ करते रहे। और दोनों की गलतियों को तू और में नहीं हम कहकर सुधारे। गलतियाँ होती है, क्यूंकि शादी के पहले हमारे पार्टनर का नेचर हमारे नेचर से अलग रहा होता है। तो हम एक दुसरे से साथ मिलकर, एक दुसरे को सपोर्ट करते रहेंगे, तब ही ताल मेल बैठने वाला है। एक दुसरे के सहयोग से ही ताल मेल बैठने वाला है। ना की दुसरे लोग ताल मेल बिठाने के लिए आने वाले है। हम दोनों के सिवा अच्छी तरह और कोण समज सकता है। गलती सुधारने के लिए हमारे लाइफ पार्टनर को अकेला न छोडदे, वो अकेला नहीं कर पायेगा उसे एक दुसरे के सहयोग की बहुत ही जरुरत होती है। इसलिए एक दुसरे की गलतियों को माफ़ करते रहे और दोनों मिलकर अपनी गलती को सुधारे।


2. रिस्पेक्ट और इज्जत दे।

अपने पार्टनर की इज्जत करना, उसे रिस्पेक्ट देना, बहुत महत्वपूर्ण है। हम अपने जीवन साथी को रिस्पेक्ट देंगें तो उसे ऐसा अहसास होगा की उसकी वैल्यू है। हर कोई बहुत अच्छा जीवन जीना चाहता है। पर खुद के लिए जीना मेरे ख़याल से पाप है, स्वार्थ है। हमें दूसरों के लिए जीना चाहिए। हम दूसरों के लिए जियेंगे तो जिंदगी का कुछ वैल्यू है। अच्छा जीवन जीने के लिए और कुछ करने के लिए, कोई कार्य करने के लिए हमारे अन्दर आत्मविश्वास का होना बहुत जरुरी है। अगर हमारी कोई रिस्पेक्ट करेगा। अगर हमारी कोई इज्जत करेगा तो हमारे अन्दर अटूट आत्मविश्वास का जन्म होता है। अगर हमें रिस्पेक्ट चाहिए तो, हमें अपने पार्टनर को रिस्पेक्ट देना ही होगा। उसकी इज्जत करनी ही होगी। हम उसे रिस्पेक्ट दे और वो हमें रिस्पेक्ट दे। ये तो मतलब की बात हो गयी, देना फिर उसके बदले में लेना, ये तो व्यापार की बात है। प्यार निःस्वार्थ होता है। उसमे देना और सिर्फ देना ही होता है। चाहे हमें कुछ मिले या ना मिले इसकी अपेक्षा हमें नहीं रखनी चाहिए। हमें अपने जीवन साथी को कभीभी निराश नहीं होने देना चाहिए। हमें अपने पार्टनर को बहुत रिस्पेक्ट देना चाहिए, उसकी बहुत इज्जत करो। और वो भी सच्ची रिस्पेक्ट करनी चाहिए। सच, सच होता है और झूठ, झूठ होता है। सच अमर होता है और झूठ का टाइम बहुत कम होता है। एक बात याद रखना झूठ कभीभी ज्यादा टाइम तक नहीं टिक सकता है। झूठ का भांडा फुट ने के लिए ही होता है। और वो बहुत ही जल्दी फुट जाता है। इसलिए अपने पार्टनर को सच्चा रिस्पेक्ट दे, बिना कोई मतलब का, निःस्वार्थ रिस्पेक्ट दे। ताकि हमारे लाइफ पार्टनर को शान्ति मिले, हमारे लाइफ पार्टनर का आत्मविश्वास बना रहे। हमारा लाइफ पार्टनर खुस रहे। हमारे लाइफ पार्टनर की तरक्की भी हमारी ही तरक्की है। चाहे हम जीवन में कुछ कर पायें, या कुछ भी ना कर पायें, हमारा लाइफ पार्टनर बहुत खुस हो यही हमारे लिए बहुत है।


3. सच्छा प्यार, निःस्वार्थ प्यार करे।

प्यारमे बहुत ताकत होती। प्यार के लिए हर कोई प्यासा होता है। दुनिया में ऐसा एक भी व्यक्ति नहीं है, जिसे प्यार नहीं चाहता हो। प्यार करने से और प्यार पाने से बहुत ही शान्ति का अनुभव होता है। प्यार करने से और प्यार प्राप्त करने से एक दुसरे के अन्दर नयी उर्जा का जन्म होता है। प्यार से ही हमारे सोच सकारात्मक होने लगती है। इस बात में कोई शक नहीं है "प्यार और विश्वास मे" उपरवाला है। प्यार ही पूजा है, प्यार ही धर्म है, प्यार ही भक्ति है, प्यार ही भजन है, प्यार से ही खराब आदतों में बदलाव लाया जा सकता है। अक्षर हम जीवन में देखते है की कुछ लोग किसीको सुधारने के लिए क्रोध का प्रयोग करता है। पर वो सुधर ने बजाय और भी बिगड़ जाता है। अगर वहा प्यार का प्रयोग किया जाए तो बिगड़ा हुवा इंसान बहुत ज्यादा, कई उम्मीदों से ज्यादा सुधर जाता है। प्यार के जैसी कोई ताकत नहीं होती है और प्यार के जैसा कुछ नहीं है। खराब शब्दों के प्रयोग से घाव होते है। प्यार करने से घाव भी भर जाते है। अगर किसीने हमारे गाल पे थप्पड़ मार दिया हो तो हम रोयेंगे, वही पे अगर हमारे लाइफ पार्टनर ने हमें किस कर दिया तो हम बहुत ही खुस हो जायेंगे। प्यार में अद्भुत शक्ति होती, प्यार ही तो उपरवाला है।


4. भरोसा, विश्वास, ईमानदारी और वफादारी रखे।

भरोसा, विश्वास ये सभी शब्द सच्चाय के शब्द है। जहा पे विश्वास टूटता है, वहा से प्यार तुरंत चला जाता है और वहा नफरत पैदा होती है। शादी शुदा जीवन में प्यार का होना बहुत अनिवार्य है। और प्यार तभी रहता है, जब विश्वास रहता है। विश्वास टुटा तो प्यार छुटा। जहा पे विश्वास मजबूत है वहा प्यार आये बिना नहीं रहता है। अपने जीवन साथी से कोई भी बात न छुपाये। हम कोई बात को छुपाने की कोशिश करेंगे तो उसे ऐसा अहसास होगा हम उससे कुछ छुपा रहे है। बेहतर ये है की जो भी बात हो हिम्मत करके बता देनी चाहिये। हमारे मन कुछ न रखे सब कुछ बता देने से विश्वाश बढ़ता है। और विश्वाश बढ़ते रहेगा तो प्यार भी बढ़ता रहेगा।
हम चाहते है की हमारा पार्टनर हमसे इमानदार रहे। पर उसके पहले हमें उसके साथ इमानदार बनना होगा। में तो ये कहूँगा की हमने शादी करके सात जन्मो तक साथ निभानेका वादा कर लिया है तो जीवन भर वफादारी करेंगे। चाहे हमें वफादारी मिले या न मिले हम तो वफादारी करेंगे। सच्चे वफादार बनेंगे। हमें अपने लाइफ पार्टनर के जगा पे किसी दुसरे वक्ती का मन मे विचार तक नहीं आने देना चाहिए। ऐसे वफादार के साथ कभी बेईमानी नहीं होती है। ऐसे अच्छे व्यक्ति को कभी धोखा नहीं मिलता है। इसलिए लिए में तो यही कहूँगा की हमें अपनी तरफ से वफादार रहेंगे। बाकी की उपरवाले की मर्जी।


5. घूमने को जाए।

जीवन जीने के लिए पैसे कमाना बहुत जरुरी होता है। इसलिए ज्यादा टाइम काम करने में निकल जाता है। तो कभी टाइम एडजस्ट करके कही पे घुमने को जाए जिससे मन खुस रहता है और खुल कर बाते होती रहती है जिससे अपनापन बढ़ता है। जिससे एकदूसरे के ज्यादा करीब हो जायेंगे। हरेक जीवन साथी यही चाहता है की उसका हमसफ़र हमेसा उसके साथ उसके आसपास ही रहे, उसके साथ मीठी बाते करे, उसके साथ थोड़ी प्यारी मस्ती करे, उसे थोडा सा सताए और वो भी बहुत ज्यादा सच्चे और निःस्वार्थ प्यार के साथ। ऐसा करने से जीवन जीने का मजा ही कुछ और है।

6. सबसे अच्छे बने रहे, और बनते रहे।

एक दुसरे के लिए हमेसा सबसे अच्छा बने रहना बहुत ही आवश्यक है। हमें हमारे जीवन साथी की हर ख्वाहिश पूरी करने की कोशिश करनी चाहिए। उसके दिलमे हमें ऐसी परमानेंट जगा बनानी है, जिसे कोई नहीं मिटा सकता। और हमारे दिलमे भी उसके लिए दिलमे परमानेंट रखनी है जिसे कोई न ले सके। उसे ऐसा अहसास होना चाहिए की हम ही उसके लिए इस दुनियामे सबकुछ है। जब भी उसके साथ हो तो उसे बहुत शान्ति का अहसास होना चाहिए। हमें देखते ही उसके चेहरे स्माइल आ जानी चाहिए। हम कही काम के लिए थोडा बहार जाए तो वो हमारा दरवाजे पे इन्तेजार करते हो। उसकी आँखे हमें देखने के लिए तरस्नी चाहिए। और हमारी सुरक्षा के लिए उपरवाले से दुवा करते हो। उसके दिलमे अच्छी जगा बनानी है। अच्छी जगा तब बनेगी जब हम उसके लिए बहुत अच्छे बनेंगे।
अपने खुसी के लम्हों को याद करे। जब हम अकेले और दुखी हो उस वक्त हमारे बीते हुवे खुसी के लम्हों को याद करना चाहिए। ऐसा करने से हमें शान्ति मिलती है।  जब शान्ति मिलती है तो सुख का ऐहसास होता है।


7. क्या पसंद है, और क्या पसंद नहीं है उसका पूरा ख्याल रखे।

हमें हमारे जीवन साथी के पसंद का ख़याल रखना चाहिए। उसकी बर्थडे हो तो ऐसा गिफ्ट देना चाहिए, जिसे हमारा पार्टनर बहुत खुस हो जाये, जिससे वो हमें तुरंत किस करदे। और फिर हम भी उसे तुरंत किस करे और हमारा प्यार हो भी मजबूत हो जाए। जब हमारा पार्टनर हमसे नाराज हो तो उसे जो बहुत पसंद हो और स्वास्थ्य के लिए फायदा कारक हो वो खाना हमें उसके लिए बनाना चाहिए और उसे प्यार से खिलाना चाहिए। हमारे पार्टनर को कोनसे कार्य में ज्यादा इंटरेस्ट है, उस कार्य मे हमें इंटरेस्ट लेना चाहिए। उसे खाने के बारेमे क्या पसंद और क्या नहीं पसंद है उसका हमें ध्यान रखना चाहिए।


8. अच्छे और बुरे वक्त में एक दूसरे को साथ दे।

सबके जीवन में अच्छा और बुरा वक्त आता रहता है। अच्छे वक्त मे सब साथ होते पर जब बुरा वक्त आता है तब ज्यादा लोग दूर हो जाते है। और बहुत कम लोग ही साथ होते है। हमारे जीवन साथी बुरे वक्त मे ऐसा ही साथ दो जैसे अच्छे वक्त मे साथ थे। एक दुसरे की गलतिय न निकाले। वर्ना अपना जीवन साथी हिम्मत खो बैठता है। बुरे वक्त में एक दुसरे को प्यार और हिम्मत देते रहना बहुत जरुरी है। हिम्मत और मेहनत करके उस बुरे वक्त को भी दूर किया जा सकता है। अच्छे और बुरे वक्त में साथ निभाने से विश्वास और प्यार दोनों बहुत बढ़ जाता है।

9. हेल्प करते रहे।

अपने जीवन साथी को हेल्प जरुर करे, उसके हर काम मे। कुछ कार्य ऐसे हो है जहा दोनों को साथ मिलकर करना होता है, वहा अपने जीवन साथी को अकेला न पड़ने दे उसका साथ दे। उसे मदद करे. उसे आपकी मदद की बहुत जरुरत होती है। वर्ना आपका जीवन साथी आपसे थोडा रूठ सकता है। फिर झघदा भी हो सकता है। और जीवन बिगड़ सकता है। कोई भी प्रोब्लम हो दोनों साथ मिलकर उसे सुलझाए। अपने जीवन साथी के हर अच्छे बुरे समय में साथ देकर अपना कर्तव्य निभाये। जब हमारा जीवन साथी बीमार हो या कोई चोट लग गयी हो तो उसे हॉस्पिटल मे ले जाए। और उसको पूरी तरह ठीक हो जाने तक उसका पूरा ख़याल रखे। हर सुख दुःख में एक दुसरे का साथ कभी न छोड़े। एक दुसरे का साथ कभी न छोड़े। और हर कार्य में एक दुसरे को सहारा देते रहे।

10. गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड जैसा व्यवहार कैसे करे।

शादी हो जाने के बाद भी गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड जैसा व्यवहार करे। अपने जीवन साथी को बेफिकर हो कर पैसे खर्च करने के लिए कहो। दोनों मिलकर पैसे कमाने के लिए मेहनत करे। एक कहावत सुनी है मेने "हर कामयाब व्यक्ति के पीछे उसे प्यार करने वालेका हाथ होता है" इस तरह दोनों एक दुसरे को प्यार करके दोनों कामयाब हो आपके पास ज्यादा दिमाग और हिम्मत हो तो बिज़नस पैसे कमाने के लिए बहुत बेहतर है। इसमें बिज़नस जैसे जैसे बड़ा होता है पैसे भी अनलिमिटेड बड़ते है। और घरमे अनलिमिटेड खुसिया आ जाती है। कई बार कुछ घरों में पैसे खर्च करने के बारेमे झघदे होते रहते, एक दुसरे की गलती निकालते रहते है। इससे रिलेशन में तनाव आ जाता है। इसकी वजह से हमें नुकशान होता है। पैसे खर्च करने के मामले में नहीं सोचना चाहिए। और नाही एक दुसरे की गलती निकालकर झघदा करना चाहिए। बल्कि नए और भी ज्यादा पैसे कमाने के रास्ते धुन्दने चाहिए। कोई भी समस्या हो, साथ मिलकर उसका समाधान करना चाहिए, ताकि जीवन भर गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड जैसा व्यव्हार हो सके। कही पर जाते और आते है तो, जाने से पहले उसे किस करके जाए। और फिर आने के बाद फिर किस करे।

11. सरप्राइज देते रहे।

सरप्राइज देने के लिए कोईभी वजह धुंद लीजिये। और प्यार से बहुत प्यार भरा अच्छा सा गिफ्ट दे जिससे हमारा जीवन साथी बहुत ही खुस हो जाए। उसके बर्थडे पे प्यार भरा विस करे। और अच्छा गिफ्ट दे। और सालगिरह पर एक दुसरे को विस करे और एक दुसरे को गिफ्ट दे। आप हस्बैंड है तो अपनी वाइफ के लिए अपनी मनपसंद का कंगन लाये, जो अपनी वाइफ को बहुत उस पे शोभे। उसके लिए अच्छी चूड़ी, अच्छे नेकलेस, अच्छे कानो मे पहनने वाले। ब्यूटीफुल सेंडल, ब्यूटीफुल कपडे, और बहुत अच्छा स्मार्ट फोन भी गिफ्ट करे और बहुत अच्छा पर्स लाये। जो भी अपनी पत्नी पे बहुत शोभे ऐसी चीजे लानी चाहिए। जिससे अपनी पत्नी बहुत खुस हो जाए। अगर आप पत्नी है, तो आप अपने हस्बैंड के लिए पेंट और शर्ट लाये जो उसपे बहुत ही शोभता हो, जुटे, चप्पल उसे गिफ्ट करे। ऐसा करने से पति पत्नी के रिलेशन में बहुत ही प्यार बढ़ जाता है। कोई भी अच्छा तरीका जो आपके मनमे हो आप करे और अपने जीवन में नयी नयी खुसी लाने की कोशिश करे।

12. परिवार की सेवा करे।

हर माता पिता ऐसे सोचते है, की हमारे बच्चे हमें बुढापे में हमारा ख़याल रखेगा। लड़की जब शादी करके ससुराल जाती है, तो अपने सास ससुर को अपने माता और पिता समजकर उनकी सेवा करनी चाहिए। बुढापे सास ससुर की तबियत बिगड़ सकती है, तो उनका पूरा ख़याल रखे। जब हम अपने माता पिता की सेवा करेंगे। जब हम अपने सास ससुर की सेवा करेंगे। दादा दादी, नाना नानी सबकी सेवा करनेका हमारा कर्तव्य है। हम अपना कर्तव्य निभायेंगे तो, हम भी जब उस पोजीशन पे जायेंगे तब हमारे बच्चे हमारी सेवा करनेका उनका कर्तव्य पूरा कर पायेंगे। जब हमारे बच्चे हमें पूछेंगे, आपने अपने माता पिता, सास ससुर, दादा दादी, नाना नानी सब लोगों की कैसी सेवा की अपना कर्तव्य अच्छी तरह निभाया के नहीं, तब हम उसे जवाब दे पायेंगे। जब हम बड़ों की सेवा करते है तब हमारे बच्चे भी वो सब देखकर सीखते है। कोई भी बोलने से कम और देखने से ज्यादा सिख जाते है। बड़ों का अनुसरण छोटे बच्चे करते है। अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए, हरेक कर्तव्य का पालन किये बिना बेहतर नहीं बनाया जा सकता है। अपनी जवानी को बुजोर्गो की सेवा करने में बिताने से उसका बहुत वैल्यू है।

13. बात सुने, और समजे।

हमारा पार्टनर हमसे क्या कहना चाहता है, इस बात को ध्यान पर ले। और उसके आँखों, चेहरे को देखकर उसके मन की बात जाननेकी कोशिश करे। उसकी बातोको सुने। जब उसकी बात सुनते है, उस वक्त हमारे मन मे दूसरा विचार चल रहा होता है तो उस विचार को बंद करे। वर्ना उसे ऐसा महसूस होगा की हम उसकी बातों पे ध्यान नहीं दे रहे है। हमें अपने पार्टनर के आँखों और चेहरे के हाव भाव से, वो क्यां कहना चाहता है, वो समजने की कोशिश करनी होगी और उस बात को अच्छेसे समजकर, सफल करे और पूरा करे। अपने पार्टनर की बात का कार्य पूरा करके उसे संतुष्ट करे।
  • मन में जो है वो साफ साफ़ कह देना चाहिए क्यूंकि सच बोलने से फैसले होते है और झूठ बोलने से फासले होते है।
  • पति समझदार हो तो मकान जल्दी ही बन जाता है, पत्नी समझदार हो तो घर जल्दी बन जाता है, बच्चे भी समझदार हो तो घर स्वर्ग बन जाता है, अगर माँ बाप साथ हो घर स्वर्ग से भी सुंदर बन जाता है।
  • पति पत्नी या तो एक दूसरे की सबसे बड़ी ताकत बन सकते है या एक दूसरे की सबसे बड़ी कमजोरी।
  • प्रेम, विश्वास और समर्पण के बिना ये रिश्ता भी जीवनभर अधूरा रेहता है।

14. अपने कर्तव्य का पालन करने में कभी न चुके।

हर एक व्यक्ति का अपना अपना कर्तव्य होता है। जो व्यक्ति अपने कर्तव्य का पालन नहीं करता है, उसे मनकी शान्ति नहीं मिलती है। अपना कर्तव्य निभाने से मनकी शान्ति मिलती है। अगर आदमी है तो उसके परिवार का ख्याल रखाना उसका कर्तव्य है। परिवार का पालन करना उसका कर्तव्य है। अगर वो आदमी अपने कर्तव्य से भटक जाता है, तो उसे मन की शान्ति नहीं मिलती है। अगर हम पुत्र या पुत्री है, तो हमें हमारे माता पिता की सेवा करना, हमारी वजह से कभी दुखी न हो उन सभी बातों का हमें ध्यान रखना चाहिए। अगर हम माता पिता है तो हमें हमारे बच्चो का ख़याल रखना चाहिए। इस लिए हमें अपने कर्तव्य का पालन करने में कभी नहीं चुकना चाहिए।
  • हमारी बुद्धि और हृदय को जो सत्य लगे, वही हमारा कर्तव्य है।
  • जो व्यक्ति धर्म (कर्तव्य) से विमुख होता है, वो बलवान होकर भी असमर्थ है, धनवान होकर भी निर्धन है और ग्यानी होकर भी मुर्ख है।

Post a Comment

0 Comments